Fri. Apr 10th, 2020

तर्पण पत्रिका

मुखर प्रतिरोध की त्रैमासिकी…

कवितायेँ

संपादकी                            भूपेंद्र भावु

डॉ. सुचित कुमार याद                     कब सम्भ

                                                    उसे मेरी याद तो आती होग
डॉ.अंकित चौरसिया                          राजनीति और लोकतंत्र
                                                    कहाँ है सब्र
डॉ प्रदीप उपाध्याय                           दाता बनकर तो देखो

                                                    आशादी

सलिल सरोज                                   मेरा चाँद
                                                     धर्म बता दो
भूपेंद्र भावुक
टीना कर्मवीर                                    मेरे पिता
मीनाक्षी गिरी                                    दो जन
काली प्रसाद जायसवाल                     तुम्हारे नहीं रहने पर
तारकेश्वर राय “तारक”                        लिकेज
प्रद्युम्न कुमार सिंह                             कभी न सोने वाली
                                                    वे ऐसे लोग नहीं हैं
विजय कनौजिया                              साथ मिलकर निभाते हैं
मुकेश कुमार (ऋषि वर्मा)                   जमाने भर का दर्द
कैलाश चन्द्र ‘माही’                           चुनावाँ की टेम में भोत मजा आवीं हीं
विजयशंकर यादव                            जनता की पुकार

मनीष ‘विरल                                   हर तरफ़ भाव की एक लहरती नदी (गीत)
दीपक मेवाती ‘वाल्मीकि’                    मैं भी तो शहीद था
मृदुलाकुशवाहा                                 बिटिया
धर्मवीर                                           अल्लाहऔरईश्वर
मैं लिखूं या ना लिखूं
सीमा गर्ग मंजरी                                तिरंगा
एम. आरिफ खान                              बिखरते रिश्ते
सोनिया                                           चूडियां भी अपनी हद जानती है
कमलेश                                           बोलो तितली
                                                      दीपशिखा
                                                      ख्वाहिशों का घर
राजीव डोगरा
ज्योति कुमारी                                   बीती यादों को ले कर
कीर्ति                                              किस्मत का फैसला
                                                     मिटकर मिटाने की ख्वाहिशें
पवन कुमार                                      खर्चीली शादियाँ
                                                     पुलवामा
                                                     रोटी की भूख
सुरभि वशिष्ठ                                     उम्र भर
चंद्र मोहन किस्कु                                आजादी का सपना
                                                       फर्क
मुकेश पोपली                                     यादों का तूफान

श्वेतांक कुमार सिंह                               आज भी बापू को देख सकते हो